योगासन के प्रकार | आसन कितने प्रकार के होते हैं

योगासन, जिसे आमतौर पर योग मुद्रा के रूप में जाना जाता है, सदियों से हमारे जीवन के लिए कल्याण का एक अभिन्न अंग रहा है।प्राचीन भारतीय परंपराओं में निहित, योगासन समग्र स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देने के लिए शारीरिक मुद्राओं, नियंत्रित श्वास और ध्यान को जोड़ते हैं।

योगासन कई प्रकार के होते हैं इसीलिए हमें अपने मन और शरीर के अनुकूल आसनो का ही चुनाव करना चाहिए। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम विभिन्न प्रकार के योगासनों के बारे में विस्तार से जानेंगे, जिनमें से प्रत्येक के शरीर और दिमाग दोनों के लिए अपने अनूठे फायदे हैं।

योगासन के प्रकार – Aasan Ke Prakar

हठ योग आसन:

हठ योग, योग का मूलभूत रूप है, जो शारीरिक मुद्राओं (आसन), सांस नियंत्रण (प्राणायाम) और ध्यान के माध्यम से मन और शरीर को संतुलित करने पर केंद्रित है।

हठ योगासन शरीर को संरेखित और शांत करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं, जो इसे शुरुआती लोगों के लिए एक उत्कृष्ट प्रारंभिक बिंदु बनाता है।

ताड़ासन (Mountain Pose), उत्तानासन (Standing Forward bend), धनुरासन(Bow Pose) और बालासन (Child Pose) जैसे आसन लचीलेपन में सुधार और विश्राम को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।

विन्यास योग आसन:

विन्यास योग एक गतिशील और प्रवाहपूर्ण शैली है जो सांस के साथ गति को समन्वयित (coordinate) करती है। यह अभ्यास मुद्राओं के बीच निर्बाध रूप से परिवर्तन करता है, जिससे नृत्य जैसा प्रवाह बनता है।

अधोमुख श्वानासन (Downward Facing Dog Pose) , चतुरंगा दंडासन (Four-Limbed Staff Pose) और उर्ध्व मुख श्वानासन (Upward Facing Dog) जैसे आसन ताकत, लचीलेपन और हृदय संबंधी सहनशक्ति का निर्माण करते हैं।

विन्यास योग न केवल एक शारीरिक कसरत है, बल्कि एक गतिशील ध्यान भी है, जो मानसिक स्पष्टता और फोकस को बढ़ावा देता है।

अयंगर (Iyengar) योग आसन:

अयंगर योग प्रत्येक मुद्रा में सटीकता और संरेखण पर जोर देता है। B.K.S Iyengar द्वारा विकसित यह शैली अभ्यासकर्ताओं को उचित संरेखण प्राप्त करने में सहायता करने के लिए अक्सर ब्लॉक, पट्टियाँ और बोल्स्टर जैसे प्रॉप्स (support) का उपयोग करती है।

इन आसनों में त्रिकोणासन (Triangle Pose), वीरभद्रासन II (Warrior Pose II), और सेतु बंधासन (Bridge Pose) जैसी मुद्राएं आसन में सुधार, शरीर की जागरूकता बढ़ाने और क्रॉनिक डिजीज (chronic conditions) को कम करने के लिए सावधानीपूर्वक किए जाते हैं।

अष्टांग योग आसन:

अष्टांग योग आसन एक विशिष्ट अनुक्रम का पालन करता है जो शक्ति, लचीलापन और सहनशक्ति को बढ़ावा देता है। प्राथमिक श्रृंखला के रूप में जाने जाने वाले इस गतिशील अभ्यास में निरंतर गति और नियंत्रित श्वास शामिल है।

सूर्य नमस्कार (Sun Salutation), पादंगुष्ठासन (Padangusthasana), और मरीच्यासन (मारीचि की मुद्रा) अष्टांग अभ्यास के अभिन्न अंग हैं। यह योग न केवल भौतिक शरीर को लाभ पहुंचाता है बल्कि अनुशासन और मानसिक फोकस को भी बढ़ावा देता है।

यह भी पढ़ें: अष्टांग योग सूत्र

कुंडलिनी योग आसन:

कुंडलिनी योग का उद्देश्य शरीर के भीतर सुप्त आध्यात्मिक ऊर्जा को जगाना है। यह शारीरिक मुद्राओं, श्वास क्रिया, मंत्र जप और ध्यान को जोड़ता है।

भुजंगासन (Cobra Pose), उष्ट्रासन (Camel Pose), और बकासन (Crow Pose) जैसे आसन ऊर्जा को प्रसारित करने और चक्रों को संतुलित करने के लिए उपयोग किए जाते हैं।

कुंडलिनी योग शरीर और दिमाग दोनों पर परिवर्तनकारी प्रभावों, आत्म-जागरूकता और आध्यात्मिक विकास को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है।

बिक्रम योग आसन:

हॉट योग के रूप में भी जाना जाता है, बिक्रम योग में एक गर्म कमरे में अभ्यास की जाने वाली 26 मुद्राओं की एक श्रृंखला शामिल है। माना जाता है कि उच्च तापमान लचीलेपन को बढ़ाता है और शरीर को विषमुक्त करता है।

अर्ध चंद्रासन (Half Moon Pose), दंडयमन धनुरासन (Standing Bow Pose), और उष्ट्रासन जैसे आसन एक विशिष्ट क्रम में किए जाते हैं। बिक्रम योग न केवल शारीरिक शक्ति और लचीलेपन में सुधार करता है बल्कि मानसिक स्पष्टता और तनाव में कमी को भी बढ़ावा देता है।

पुनर्स्थापनात्मक (Restorative) योग आसन:

अधिक सशक्त शैलियों के विपरीत, पुनर्स्थापना योग विश्राम और कायाकल्प पर केंद्रित है। इस तरह के आसन लंबे समय तक किए जाते हैं, जिससे शरीर को तनाव और दबाव से राहत मिलती है।

शवासन (Corpse Pose), समर्थित बच्चे की मुद्रा (Supported Child’s Pose), और Legs-Up-the-Wall Pose जैसे समर्थित पोज़ गहरी छूट को प्रोत्साहित करते हैं और पैरासिम्पेथेटिक तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करते हैं। तनाव कम करने और समग्र कल्याण को बढ़ावा देने की चाह रखने वालों के लिए पुनर्स्थापनात्मक योग एक उत्कृष्ट विकल्प है।

योगासन अभ्यास में बचने योग्य सामान्य गलतियाँ

योगासनों का पूरा लाभ उठाने के लिए, सचेतन और जागरूकता के साथ अभ्यास करना आवश्यक है। अत्यधिक परिश्रम, अनुचित संरेखण और अपनी सांस की उपेक्षा जैसी सामान्य गलतियों से बचें।

इसके अलावा, योगासन अभ्यास के दौरान आपका शरीर जो संकेत दे रहा है, उस पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है। एक सामान्य गलती जिससे बचना चाहिए वह है अपने आप पर बहुत अधिक दबाव डालना, क्योंकि अत्यधिक परिश्रम से चोट लग सकती है और आपकी प्रगति में बाधा आ सकती है। एक टिकाऊ और पूर्ण योग अभ्यास के लिए प्रयास और सहजता के बीच संतुलन बनाना सर्वोपरि है।

इसके अलावा, जोड़ों और मांसपेशियों पर तनाव से बचने के लिए प्रत्येक आसन में उचित संरेखण बनाए रखना महत्वपूर्ण है। गलत संरेखण न केवल मुद्रा की प्रभावशीलता को कम कर सकता है बल्कि समय के साथ असुविधा या चोट का खतरा भी बढ़ा सकता है।

किसी जानकार योग प्रशिक्षक से नियमित रूप से परामर्श करने से आपकी मुद्राओं को परिष्कृत करने और समग्र अनुभव को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

निष्कर्ष

योगासन विभिन्न आवश्यकताओं और प्राथमिकताओं को पूरा करते हुए विविध प्रकार के शारीरिक और मानसिक लाभ प्रदान करते हैं।

चाहे आप विन्यास का गतिशील प्रवाह पसंद करें या अयंगर का सटीक संरेखण, हर किसी के लिए एक प्रकार का योगासन है। इन मुद्राओं को अपने नियमित अभ्यास में शामिल करने से लचीलेपन, ताकत और मानसिक स्पष्टता में सुधार हो सकता है।

तो, समग्र कल्याण की ओर एक कदम उठाएं और अपने जीवन में योगासनों की परिवर्तनकारी शक्ति अनुभव करें।

यह भी पढ़ें: 10 योगासन के नाम चित्र सहित

FAQs

क्या प्रतिदिन योगासन करना आवश्यक है?

दैनिक अभ्यास फायदेमंद है, जबकि सप्ताह में कुछ सत्र भी सकारात्मक परिणाम दे सकते हैं।

क्या कोई शीर्षासन जैसे उन्नत योगासन का अभ्यास कर सकता है?

उचित मार्गदर्शन के साथ, विभिन्न कौशल स्तरों वाले व्यक्ति उन्नत योगासन का अभ्यास कर सकते हैं।

क्या मुद्रा में सुधार के लिए विशिष्ट योगासन हैं?

हां, ताड़ासन और उष्ट्रासन जैसे आसन संरेखण पर ध्यान केंद्रित करते हैं और बेहतर मुद्रा में योगदान कर सकते हैं।

अधिकतम लाभ के लिए किसी योगासन को कितनी देर तक करना चाहिए?

शुरुआत में15-30 सेकंड के लिए एक मुद्रा बनाए रखना और धीरे-धीरे अवधि बढ़ाना इष्टतम लाभ के लिए एक सामान्य दृष्टिकोण है।

क्या योगासन चिंता को कम करने में मदद कर सकते हैं?

हां, योगासन में सांस पर नियंत्रण और ध्यान का संयोजन चिंता को कम करने में प्रभावी हो सकता है।

Leave a Comment

19 − 11 =